(Network Architecture) नेट आर्किटेक्चर क्या है ? और इनके विभिन्न फीचर्स |

आज हम इस पोस्ट में देखेंगे कि नेट आर्किटेक्चर क्या है, नेट आर्किटेक्चर क्या होता है ? और नेट आर्किटेक्चर के विभिन्न फीचर्स(Network Architecture) इत्यादि अन्य चीजों के बारे में बिस्तार से जानेंगे इस पोस्ट के माध्यम से ।

नेट आर्किटेक्चर क्या है (Network Architecture)

नेट आर्किटेक्चर इस बात का वर्णन करता है कि नेटवर्क व्यवस्था कैसे की गई है और संसाधनों का समन्वय कैसे किया गया है और उन्हें कैसे साझा किया जा रहा है। इसमें नेटवर्क टोपोलॉजी और स्ट्रेटेजिस सहित विभिन्न नेटवर्क विशेषताओं की एक किस्म शामिल होती हैं। नेटवर्क टोपोलॉजी नेटवर्क की भौतिक व्यवस्था का वर्णन करती है नेटवर्क स्ट्रेटेजिस परिभाषित करती हैं कि जानकारी और संसाधनों को कैसे साझा किया जा रहा है।

टोपोलॉजी (Topology)

नेट आर्किटेक्चर क्या है
नेट आर्किटेक्चर क्या है

एक नेटवर्क को कई अलग-अलग तरीके से व्यवस्थित किया जा सकता है। इस व्यवस्था को नेटवर्क की टोपोलॉजी कहा जाता है। सबसे आम टोपोलॉजी हैं: बस नेटवर्क-प्रत्येक डिवाइस एक आम कैबल से जुड़ा है, जिसे एक बस या रीढ़ की हड्डी (बैंक बोन) कहा जाता है, और सभी संचार इस बस के साथ भमण करते हैं। रिंग नेटवर्क-प्रत्येक डिवाइस दो अन्य उपकरणों से जुड़ा हुआ होता है, जो एक रिंग का रूप बनाते हैं। । जब कोई संदेश भेजा जाता है. यह रिंग के आसपास पारित होता जाता है, जब तक कि यह अपेक्षित गंतव्य तक नहीं पहुँचता है।

स्टार नेटवर्क प्रत्येक डिवाइस एक केंद्रीय नेटवर्क स्विच से सौधे जुड़े हुए होते हैं। जब भी कोई नोड एक संदेश भेजता है, तब यह स्विच की तरफ जाता है, जो फिर उस संदेश को

अपेक्षित प्राप्तकर्ता तक पहुँचाता है। स्टार नेटवर्क आज सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली नेटवर्क टोपोलॉजी है। इसे एप्लीकेशन को एक व्यापक श्रृंखला के लिए लागू किया जाता है, जैसे घर में स्थित छोटे नेटवर्क से लेकर बड़े निगमों में स्थित बहुत बड़े नेटवर्क तक। टी नेटवर्क-प्रत्येक डिवाइस सीधे या एक या एक से अधिक अन्य उपकरणों के माध्यम से एक केंद्रीय नोड से जुड़े होते हैं। केंद्रीय नोड दो या दो से अधिक अधीनस्थ नोड्स से जुड़े होते हैं, जो आगे अन्य अधीनस्थ नोड्स से जुड़े होते हैं, और इसी प्रकार आगे यह एक ट्री जैसी संरचना बनाते हैं। इस नेटवर्क का, जिसे एक श्रेणीबद्ध नेटवर्क के रूप में भी जाना जाता है, अक्सर कॉर्पोरेट संबंधी डेटा साझा करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

मेश नेटवर्क यह टोपोलॉजी नवीनतम प्रकार की है और किसी एक विशिष्ट भौतिक लेआउट का उपयोग नहीं करती (जैसे एक स्टार या एक ट्री के रूप में)। बल्कि, मैश नेटवर्क के लिए इस बात की आवश्यकता होती है कि प्रत्येक नोड का अन्य नाइस के साथ एक से अधिक कनैक्शन रहें । जिसका परिणामी पैटर्न एक देश का रूप धारण करता है। यदि दो नोड्स के बीच का कोई रास्ता किसी भी तरह से बाधित होता है, तो डा स्वचालित रूप से एक और पथ का उपयोग कर विफल हुए मार्ग के आसपास से भेजा जा सकता है। मैश नेटवर्क का निर्माण करने के लिए अक्सर वायरलेस प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल किया जाता है।

कार्यनीतियाँ (स्ट्रेटिजिस) हर नेटवर्क की एक कार्यनीति होती है. या जानकारी और संसाधनों को साझा करने के लिए समन्वय का एक तरीका होता है। सबसे आम नेटवर्क कार्यनीतियों में से दो हैं क्लाइंट/सर्वर और पोअर-टू-पीअर। क्लाइंट/सर्वर नेटवर्क, नेटवर्क पर स्थित अन्य नोड्स के साथ समन्वय करने के लिए और उन्ह वाओ को पूर्ति करने के लिए केंद्रीय सर्वर का उपयोग करते हैं। सर्वर, गेव पेज, डइटायस, एप्लिकेशन हार्डवेयर जैसे संसाधनों के लिए पहुँच प्रदान करते है। यह कार्यनीति और विशेषता पर आधारित होती है। सर्वर नांदसा विशेष संकाओं को आपूर्ति करता है और उनका समन्वय करता ार ग्राहक नोस सेवाओं का अनुरोध करता है। आमतौर पर इस्तेमाल किये जाने वालं सर्वर ऑपरेटिंग सिस्टम है विंडोज सर्वर, मैक ओएस एक्स सर्वर, लाइनेक्स, और सोलारिस।

नेट आर्किटेक्चर क्या है
नेट आर्किटेक्चर क्या है

क्लाइंट/सर्वर नेटवर्क का इंटरनेट पर व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, जब भी आप एक वेब ब्राउजर खोलते. आपका कंप्यूटर (ग्राहक) किसी विशेष बेब पंज के लिए क अनुरोध भेजता है। इस अनुरोध को इंटरनेट पर एक सर्वर की तरफ भेजा जाता है। यह सर्वर अनुरोध की गई सामी को खोजता है और आपके कंप्यूटर को वापस भेजता है।

साटा नेटवर्क कार्यनीति का एक लाभ पा है कि इसमें बहुत बड़े नेटवर्क को कशलता से संचालन की माता होती है। एक और लाभ यह है कि तुमने नेटवर्क की गतिविधियों की निगरानी और नियंत्रण करने के लिए शक्तिशाली नेटवर्क प्रबंधन सॉफ्टवेयर उपलब्ध होता है। इसका प्रमुख नुकसान है, इसकी स्थापना और रखरखाव करने की लागत। एक पीअर-टू-पीअर (P2P) नेटवर्क में नोड्स का समान अधिकार होता है और वह क्लाइंट

और सर्वर दोनों के रूप में कार्य कर सकता है। इंटरनेट पर खेल, सिनेमा और संगीत साझा करने का सबसे आम तरीका एक P2P नेटवर्क का उपयोग करना है। उदाहरण के लिए, विशेष फाइल साझा करने वाले सॉफ्टवेयर, जैसे, बिट टोरेंट का अन्य पर्सनल कंप्यूटर पर स्थित फाइलों को प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और साथ ही ये अन्य पर्सनल कंप्यूटर को फाइलें प्रदान कर सकते हैं। जैसे-जैसे लोग दुनिया भर में अन्य लोगों के साथ जानकारी को साझा करने में लगे हुए हैं, वैसे-वैसे P2p नेटवर्क की लोकप्रियता में तेजी से वृद्धि हो रही है। इसका प्राथमिक लाभ यह है कि वे इंस्टॉल करने और इस्तेमाल करने में आसान और सस्ते (अक्सर निःशुल्क) होते हैं P2P नेटवर्क का एक नुकसान यह है कि इसमें सुरक्षा संबंधी नियंत्रण या अन्य आम प्रबंधन कार्यों का अभाव रहता है। इस कारण से, कोई भी व्यवसाय संवेदनशील जानकारी का संवाद करने के लिए नेटवर्क के इस प्रकार का उपयोग नहीं करते हैं।

 

सिस्टम यूनिट क्या है और 5 सिस्टम यूनिट के प्रकार

Leave a Comment